Reply – ख़ामख़ाह
Your Name
Subject
Message
or Cancel
In Reply To
ख़ामख़ाह
— by Shashank kondvilkar Shashank kondvilkar
#ख़ामख़ाह

वो बारिश कि बुंदोमे अक्सर..
तनहाई छुपी देखी मैने
न जाने कीस बात पर..
ऐतराज होने लागा है ख़ामख़ाह।

#skshashank
@शशांक कोंडविलकर





Shashank kondvilkar